fbpx

एकमुखी रुद्राक्ष

Sale!

5,100.00 2,100.00

Delivery: Within 3 – 5 Business Days
Free Shipping:  All over India
Order on Call: 9319771309
Energization: Pandit suresh Shastri

 

Category:

Description

एक मुखी रुद्राक्ष को सबसे चमत्कारी और कल्याणकारी रुद्राक्ष माना जाता है। एक मुखी को साक्षात भगवान शिव का ही स्वरुप माना जाता हैं। कियोकि िसमये भगवन शिव ही विराजते है। यह मान्यता है की इसके दर्शन मात्र से ही मानवता का कल्याण हो जाता है। जिस घर मे यह होता ह उस घर मे सवयं ही लक्ष्मी जी विराजती है । यह अपने धारण करता को सभी प्रकार के नुकसान वा डर से दूर रखता है। एक मुखी के दो प्रकार के दाने इस धरती पर पाए जाते हैं। एक गोल आकार में वा दूसरा काजू के आकार में पाया जाता है। एक मुखी रुद्राक्ष में एक प्राकृतिक लाइन वा धारी होती है। एक मुखी रुद्राक्ष बहुत ही दुर्लभ होता है।और यह अन्य रुद्राख की तुलना मे बहुत ही कम मात्रा मे पैदा होता हैं नेपाल मे पाया जाने वाला एक मुखी रुद्राक्ष तो बहुत ही दुर्लभ हैं  और जो रुद्राक्ष बाजार मे उपलब्ध है या तो हिमालय के जंगलों वा दछिणी भारत के रमैश्वरं के जंगलो मे पाया जाता हैं कीमत की बात करे तो हिमलय मे पाया जाने वाले गोल रुद्राख की कीमत ज्यादा होती हैं। रामेश्वरम के जंगलो मे पाए जाने वाले चंद्र एकमुखी रुद्राक्ष की तुलना मे ।

1 mukhi round rudraksha price 

एकमुखी रुद्राक्ष के लाभ:- 1 mukhi rudraksha benefits in hindi
घर मे लख्मी जी का वास होता हे धन वा व्यापार मे वृद्धि होती है।
उच्‍च रक्‍तचाप (bp) की समस्‍या को नियंत्रित करने काफी मद्दद करता है।
ब्रह्म हत्या जेसै माह पाप के प्रभाव को ख़तम करता है।
किसी भी प्रकार की हानि, अनिष्ठा भय कलय सै दूर रखता है।
मनोवांछित फल प्रपात होता है वा शत्रु खुद मे खुद ही परास्त हो जाते है।
मानसिक शांति प्रदान करता है। वा तनाव मुक्त रखता है। तथा हर प्रकार क संकट हर लेता है।

एक मुखी रुद्राक्ष को प्रयोग करने के विधि :-
रुद्राक्ष को धारण करने से पूर्व कुछ शुद्ध पवित्र काम किए जाते हैं
(एक मुखी रुद्राक्ष के दोनों और सोने को टोपी मंडवाकर धारण करनी सै इसे बेहत उत्तम मन जाता है। )
(लाल धागे में पिरो कर भी आप इसे पहन सकते हैं )
जिनके उपरांत रुद्राक्ष को अभिमंत्रित कर फल दायक उपयोग करने हेतु योग्य बनाया जाता है।
रुद्राक्ष को पांच से सात दिनों तक सरसों के तेल में भिगोकर रखना चाहिए तत्पश्चात रुद्राक्ष को दूध ,गंगाजल, जैसी पवित्र वस्तुओं के साथ स्नान कराएं तथा रुद्राक्ष को पंचामृत एवं पंचगव्य से भी स्नान करवाएं और इसके साथ ही “ॐ नमः शिवाय” इस पंचाक्षर बीज मंत्र का जाप करते रहें। शुद्ध करने क बाद लालपुष्प ,चंदन, बिल्वपत्र, अर्पित करें तथा धूप, दीप दिखाकर पूजन करके अभिमंत्रित करें।

धारण कैसे करे :-
धारण करने सै पहले पूर्व या उत्तर की ओर मुख करते हुए इस मंत्र का उच्चारण करे ( “ॐ तत्पुरुषाय विदमहे महादेवाय धीमहि तन्नो रूद्र: प्रचोदयात ।।”) तथा रुद्राक्ष को शिवलिंग से स्पर्श कराकर उस पर हवन की भभूति लगाएं और इसी गले में धारण कर ले ।
शुभ मुहूर्त:-
सोमवार ,पूर्णिमा जैसे शुभ दिनों में धारण इसके अतिरिक्त ग्रहण में, मकर संक्रांति, अमावस्या में धारण कर सकते है।

हम सै लेने के फायदे :-
एकमुखी रुद्राक्ष को हमारे पंडितजी विधि-विधान द्वारा अभिमंत्रित कर के आपके पास भेजा जाएगा जिससे आपको शीघ्र अति शीघ्र इसका पूर्ण लाभ मिल सके। और आपकी हर समस्या का पूर्ण समाधान हो सके ।
“ॐ नमः शिवाय”

ek mukhi rudraksha online purchase

एकमुखी रुद्राक्ष
Scroll to top